सऊदी अरब में नदी और झरना ना होने के बावजूद कैसे पूरी की जाती है पानी की जरूरत।

दोस्तों आज हम आपको बताने वाले हैं कि सऊदी अरब में चारों तरफ रेत ही रेत होने के बावजूद भी देश में पानी की कमी को कैसे पूरा किया जाता है।

दोस्तों सऊदी अरब रेगिस्तान में बसा देश है जहां कोई स्थाई नदी और झरना नहीं है देश में पानी कम मात्रा में उपलब्ध है और बहुत ही कीमती है। देश में पानी के संसाधनों को लेकर किसी तरह की बढ़ोतरी नहीं हुई है जबकि इसकी मांग लगातार बढ़ती ही जा रही है। चलिए जानते हैं कि पानी की कमी को Saudi Arab कैसे पूरा करता है।

सऊदी अरब में पानी का मुख्य स्रोत एकबिफर है। एकबिफर्स में अंडरग्राउंड पानी का संग्रह किया जाता है। 1970 में सरकार ने अकबिफर्स पर काम करना शुरू किया था और फिर धीरे-धीरे हजारों की संख्या में तैयार किए गए हैं। इसका पानी शहरी जरूरतों और कृषि दो तरह की जरूरतों को पूरा करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। दोस्तों सऊदी अरब में पानी का दूसरा सबसे बड़ा स्रोत समुद्र है। समुद्र के पानी को पीने के लिए बड़ी-बड़ी मशीनों के द्वारा बनाया जाता है। समुद्री पानी को पीने लायक बनाने की प्रक्रिया को डेसेलिनाशन कहते हैं। सेलीन वाटर कन्वर्सेशन कार्पोरेशन 27 डिसेलिनेशन स्टेशन को आपरेट करता है। और इस से 3 बिलियन क्यूबिक मीटर पोर्टेबल वाटर हर दिन निकलता है। यह प्लांट शहरों में इस्तेमाल होने वाले 70% जल को उपलब्ध कराते हैं और साथ ही इंडस्ट्रीज के इस्तेमाल लायक पानी भी उपलब्ध कराते हैं इलेक्ट्रॉनिक पावर जनरेशन के यह भी सोर्स हैं।

फिलहाल समुद्री पानी को खारेपन से मुक्त करने की तकनीकी को अपनाना बहुत ही महंगा होता है। इस समय जिसकी लागत 1000 डॉलर प्रति एकड़ आती है। जबकि साधारण तरीके से पानी के स्रोत से जल को शुद्ध बनाने की प्रक्रिया पर $200 प्रति एकड़ का खर्च आता है। इस तकनीक को को धीरे-धीरे और अधिक विकसित किया जा रहा है। जिसके लिए तमाम वैज्ञानिक जी जान से काम में जुटे हुए हैं। कुवैत, सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, और बहरीन ऐसा देश है जो लगभग इसी पानी का 70% हिस्सा उपयोग कर लेते हैं। अगर किसी वजह से इन देश में बाढ़ आ जाए तो उस बाढ़ के पानी को भी संग्रहित कर लिया जाता है ताकि भविष्य में उस पानी को काम में लाया जा सके देश में कई बड़े बड़े बांध भी हैं जो काफी मात्रा में जल का संग्रहण करते हैं और इस तरह से देश में हर जगह पीने वाला पानी और कृषि वाला पानी पहुंचाया जाता है।

LEAVE A REPLY